Skip to main content

धारा 125 के तहत एक पति द्वारा भरण पोषण की drafting करो?Drafting of maintenance by a husband under section 125?

[1] यदि कोई व्यक्ति जो किसी स्त्री, पुरुष या बच्चे का पति या पत्नी, पुत्र या पुत्री, पिता या माता, दादा या दादी, नाती या पोता, या पराश्रयी हो और जो उस व्यक्ति के साथ रहने का हकदार हो, भरण-पोषण प्राप्त करने में असमर्थ हो, तो वह व्यक्ति, जिसके साथ रहने का हकदार है से भरण-पोषण के लिये आवेदन कर सकता है। 


[2] उपधारा [1] के तहत आवेदन, न्यायालय में दायर किया जायेगा, जिसके क्षेत्राधिकार में वह व्यक्ति रहता है  जिससे भरण-पोषण का दावा किया जा रहा है। 


[3] न्यायालय, आवेदन पर विचार करने के बाद यदि यह पाता है कि आवेदक भरण-पोषण प्राप्त करने में असमर्थ है और प्रतिवादी भरण-पोषण देने में सक्षम है तो न्यायालय  प्रतिवादी को आवेदक की भरण-पोषण के लिये एक उचित राशि का भुगतान करने का आदेश दे सकता है।


 [4] न्यायालय, आदेश में भरण-पोषण की राशि, भुगतान की विधि और समय और अन्य आवश्यक शर्ते निर्धारित करेगा। 


[5] न्यायालय समय-समय पर आदेश की समीक्षा कर सकता है और यदि आवश्यक हो तो इसमें संशोधन कर सकता है।

 स्पष्टीकरण : 

[a] "स्त्री शब्द में विधवा स्त्री भी भरण-पोषण प्राप्त करने की अधिकारी है। 

[b] पुरुष शब्द में वह व्यक्ति भी शामिल है जिसका तलाक हो चुका है।

 [C] बच्चे में नाबालिक बच्चे और विकलांग बच्चे भी शामिल है।

 [d] "पराश्रयी" में ऐसे व्यक्ति शामिल है जो किसी अन्य व्यक्ति  पर आश्रित है और स्वंय का भरण - पोषण करने में असमर्थ है। 


कौन-कौन लोग भरण-पोषण की मांग कर सकते हैं?

• एक पत्नी, जो अपने पति से अलग रह रही है, भरण पोषण के लिए धारा 125 के तहत आवेदन कर सकती है। 

• एक नाबालिग बच्चा, जो अपने माता पिता से अलग रह रहा है। भरण-पोषण के लिये धारा 125 के तहत आवेदन कर सकता है। 

• एक बुजुर्ग माता-पिता जो अपने बच्चों में अलग रह रहे है भारण-पोषण के लिये धारा 125 के तहत आवेदन कर सकते हैं। 



पति द्वारा पत्नि से भरण पोषण की मांग की याचिका 

न्यायालय श्रीमान पारिवारिक न्यायाधीश महोदय, [स्थान] 

वाद सं०xxxx सन् XXXX             

                                          थाना xxxxx याचिका कर्ता बनाम प्रतिवादी


 प्रार्थनापत्र याचिका कर्ता [ पति का नाम] [पता] प्रतिवादी [ पत्नी का नाम, पता] निवासी xx xx थाना XXXX जिला XXXX की ओर से निम्नलिखित निवेदन है一


 [1] यह की याचिकाकर्ता का विवाह प्रतिवादी पुत्री श्री xxxx निवासी Xxxx थाना  xxxx जनपद XXXX के साथ हिन्दु रीति-रिवाजों के अनुसार प्रतिष्ठित व्यक्तियों एवं  दोनों पक्षों के रिश्तेदारों, सम्बन्धियों के समक्ष दिनांक XXX XX को स्थान में सम्पन्न हुआ था। 

[2] विवाह के बाद, याचिकाकर्ता और प्रतिवादी [शहर] में एक साथ रहते थे।


 [3.] याचिकाकर्ता एक [ पति का व्यवसाय ] है और प्रतिवादी एक [ पत्नी का व्यवसाय है।

 [4] प्रतिवादी अपनी मर्जी से याचिकाकर्ता की छोडकर (तारीख] को । पत्नी के घर का पता ] पर चली गयी।


[5] प्रतिवादी [पत्नी की आय] का मासिक वेतन प्राप्त करती है ।

[6] याचिकाकर्ता [ पति की आय] का मासिक वेतन प्राप्त करता है। 

[7] याचिकाकर्ता अपनी आय से अपनी बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करने में असमर्थ है! 

[8] प्रतिवादी, जो याचिकाकर्ता से अधिक कमाती है याचिकाकर्ता को भरण-पोषण प्रदान करने में विफल रही है। 

उपरोक्त तथ्यों के आधार पर याचिकाकर्ता निम्नलिखित प्रार्थना करता है :-


[1] माननीय न्यायालय प्रतिवादी को याचिकाकर्ता की भरण-पोषण के लिये उचित राशि प्रदान करने का आदेश दे।

 [2] माननीय न्यायालय याचिकाकर्ता को भरण-पोषण की राशि के भुगतान के लिये प्रतिवादी के खिलाफ उचित आदेश दे।

 [3] माननीय न्यायालय  याचिकाकर्ता की याचिका में उल्लिखित अन्य राहत प्रदान करे। 

दिनांक                           याचिकाकर्ता [नाम 
                                      थाना [xx.xxx] 

Note: • यह केवल एक नमूना है, और यह सभी परिस्थितियों में लागू नहीं होगा। यदि आपको धारा 125 के तहत याचिका दायर करने में  सहायता की आवश्यकता है तो आप एक वकील से संपर्क कर सकते हैं। 

• याचिका में आपके द्वारा दिये गये सभी तथ्यों और दस्तावेजों को प्रमाणित किया जाना चाहिये।


       यह याचिका केवल एक उदाहरण है। आप को अपनी विशिष्ट परिस्थितियों के अनुसार इसे संशोधित करने की आवश्यकता होगी।



[1] If any person who is the husband or wife, son or daughter, father or mother, grandfather or grandmother, grandchild or dependent of any man, woman or child and who is entitled to reside with that person, shall pay -  If the person is unable to obtain maintenance, he may apply for maintenance from the person with whom he is entitled to reside.


 [2] An application under sub-section [1] shall be filed in the Court within whose jurisdiction the person from whom maintenance is claimed resides.


 [3] If the court, after considering the application, finds that the applicant is incapable of receiving maintenance and the defendant is capable of providing maintenance, the court shall award a reasonable sum to the defendant for the maintenance of the applicant.  Can order to do.


  [4] The court shall, in the order, determine the amount of maintenance, the method and time of payment and other essential conditions.


 [5] The Court may review the order from time to time and amend it if necessary.

  the explanation :

 [a] “In the word woman, a widow is also entitled to receive maintenance.

 [b] The word male also includes a person who has been divorced.

  [C] Child also includes minor children and disabled children.

  [d] “Dependent” includes a person who is dependent on another person and is unable to maintain himself.



Who can demand maintenance?

 • A wife, who is living separately from her husband, can apply for maintenance under Section 125.

 • A minor child, who is living separately from his parents.  Can apply for maintenance under section 125.

 • An elderly parent who is living separately from his/her children can apply for maintenance under Section 125.



 Petition by husband demanding maintenance from wife

 Court Mr. Family Judge, [Place]

 Case No. XXXX No. XXXX

                                           Police station xxxxx

 Petitioner vs respondent


  The following submission is made on behalf of the petitioner [husband's name] [address] the respondent [wife's name, address] resident of xx xx police station XXXX district XXXX.


[1] That the marriage of the petitioner with the respondent daughter Mr.

 [2] After the marriage, the petitioner and the respondent lived together in [city].


  [3.] The petitioner is a [husband's business] and the respondent is a [wife's business.

  [4] The respondent voluntarily left the petitioner and moved to [wife's residence address] on [date].


 [5] The defendant receives a monthly salary of [wife's income].

 [6] The petitioner receives a monthly salary of [husband's income].

 [7] The petitioner is unable to meet his basic needs from his income!

 [8] The respondent, who earns more than the petitioner, has failed to provide maintenance to the petitioner.

 On the basis of the above facts, the petitioner prays the following:-


 [1] The Honorable Court should order the defendant to provide appropriate amount for the maintenance of the petitioner.

  [2] The Honorable Court should pass appropriate order against the respondent for payment of maintenance amount to the petitioner.

  [3] The Honorable Court should grant other relief mentioned in the petition of the petitioner.

 Date Petitioner [Name]
                                       police station [xx.xxx]



Note: • This is only a sample, and will not apply in all circumstances.  If you need assistance in filing a petition under Section 125, you can contact a lawyer.

 • All the facts and documents given by you in the petition should be certified.


        This petition is just an example.  You will need to modify it to suit your specific circumstances.

Comments

Popular posts from this blog

मेहर क्या होती है? यह कितने प्रकार की होती है. मेहर का भुगतान न किये जाने पर पत्नी को क्या अधिकार प्राप्त है?What is mercy? How many types are there? What are the rights of the wife if dowry is not paid?

मेहर ( Dowry ) - ' मेहर ' वह धनराशि है जो एक मुस्लिम पत्नी अपने पति से विवाह के प्रतिफलस्वरूप पाने की अधिकारिणी है । मुस्लिम समाज में मेहर की प्रथा इस्लाम पूर्व से चली आ रही है । इस्लाम पूर्व अरब - समाज में स्त्री - पुरुष के बीच कई प्रकार के यौन सम्बन्ध प्रचलित थे । ‘ बीना ढंग ' के विवाह में पुरुष - स्त्री के घर जाया करता था किन्तु उसे अपने घर नहीं लाता था । वह स्त्री उसको ' सदीक ' अर्थात् सखी ( Girl friend ) कही जाती थी और ऐसी स्त्री को पुरुष द्वारा जो उपहार दिया जाता था वह ' सदका ' कहा जाता था किन्तु ' बाल विवाह ' में यह उपहार पत्नी के माता - पिता को कन्या के वियोग में प्रतिकार के रूप में दिया जाता था तथा इसे ' मेहर ' कहते थे । वास्तव में मुस्लिम विवाह में मेहर वह धनराशि है जो पति - पत्नी को इसलिए देता है कि उसे पत्नी के शरीर के उपभोग का एकाधिकार प्राप्त हो जाये मेहर निःसन्देह पत्नी के शरीर का पति द्वारा अकेले उपभोग का प्रतिकूल स्वरूप समझा जाता है तथापि पत्नी के प्रति सम्मान का प्रतीक मुस्लिम विधि द्वारा आरोपित पति के ऊपर यह एक दायित्व है

वाद -पत्र क्या होता है ? वाद पत्र कितने प्रकार के होते हैं ।(what do you understand by a plaint? Defines its essential elements .)

वाद -पत्र किसी दावे का बयान होता है जो वादी द्वारा लिखित रूप से संबंधित न्यायालय में पेश किया जाता है जिसमें वह अपने वाद कारण और समस्त आवश्यक बातों का विवरण देता है ।  यह वादी के दावे का ऐसा कथन होता है जिसके आधार पर वह न्यायालय से अनुतोष(Relief ) की माँग करता है ।   प्रत्येक वाद का प्रारम्भ वाद - पत्र के न्यायालय में दाखिल करने से होता है तथा यह वाद सर्वप्रथम अभिवचन ( Pleading ) होता है । वाद - पत्र के निम्नलिखित तीन मुख्य भाग होते हैं ,  भाग 1 -    वाद- पत्र का शीर्षक और पक्षों के नाम ( Heading and Names of th parties ) ;  भाग 2-      वाद - पत्र का शरीर ( Body of Plaint ) ;  भाग 3 –    दावा किया गया अनुतोष ( Relief Claimed ) ।  भाग 1 -  वाद - पत्र का शीर्षक और नाम ( Heading and Names of the Plaint ) वाद - पत्र का सबसे मुख्य भाग उसका शीर्षक होता है जिसके अन्तर्गत उस न्यायालय का नाम दिया जाता है जिसमें वह वाद दायर किया जाता है ; जैसे- " न्यायालय सिविल जज , (जिला) । " यह पहली लाइन में ही लिखा जाता है । वाद - पत्र में न्यायालय के पीठासीन अधिकारी का नाम लिखना आवश्यक

अंतर्राष्ट्रीय विधि तथा राष्ट्रीय विधि क्या होती है? विवेचना कीजिए.( what is the relation between National and international law?)

अंतर्राष्ट्रीय विधि को उचित प्रकार से समझने के लिए अंतर्राष्ट्रीय विधि तथा राष्ट्रीय विधि के संबंध को जानना अति आवश्यक है ।बहुधा यह कहा जाता है कि राज्य विधि राज्य के भीतर व्यक्तियों के आचरण को नियंत्रित करती है, जबकि अंतर्राष्ट्रीय विधि राष्ट्र के संबंध को नियंत्रित करती है। आधुनिक युग में अंतरराष्ट्रीय विधि का यथेष्ट विकास हो जाने के कारण अब यह कहना उचित नहीं है कि अंतर्राष्ट्रीय विधि केवल राज्यों के परस्पर संबंधों को नियंत्रित करती है। वास्तव में अंतर्राष्ट्रीय विधि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सदस्यों के संबंधों को नियंत्रित करती है। यह न केवल राज्य वरन्  अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं, व्यक्तियों तथा कुछ अन्य राज्य इकाइयों पर भी लागू होती है। राष्ट्रीय विधि तथा अंतर्राष्ट्रीय विधि के बीच घनिष्ठ संबंध हैं। दोनों प्रणालियों के संबंध का प्रश्न आधुनिक अंतरराष्ट्रीय विधि में और भी महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि व्यक्तियों के मामले जो राष्ट्रीय न्यायालयों के सम्मुख आते हैं वे भी अंतर्राष्ट्रीय विधि के विषय हो गए हैं तथा इनका वृहत्तर  भाग प्रत्यक्षतः व्यक्तियों के क्रियाकलापों से भी संबंधित हो गया है।