Skip to main content

Striving for Equality: The Case for a Uniform Civil Code

साइबर बुलिंग क्या होती है ? इसमें कौन -कौन से अपराध शामिल हैं?What is cyber bullying? Which crimes are involved in this?

साइबर बुलिंग एक ऐसा प्रकार का ऑनलाइन हरासमेंट होता है जिसमें व्यक्ति इंटरनेट या मोबाइल डिवाइस के माध्यम से दूसरे व्यक्तियों को बदनाम करता है, परेशान करता है, या उनके खिलाफ नकारात्मक टिप्पणियाँ करता है। यह व्यक्तिगत जीवन में हानि पहुंचा सकता है और आत्मविश्वास को कमजोर कर सकता है। साइबर बुलिंग की रूपेण ईमेल, सोशल मीडिया, ऑनलाइन गेमिंग, चैट रूम्स, या अन्य ऑनलाइन माध्यमों का इस्तेमाल किया जा सकता है।


सोशल मीडिया साइबर बुलिंग (Social Media Cyberbullying): यह विशेष रूप से सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर होता है, जैसे कि किसी को अपमानित करने के लिए झूठी गलियां या घृणास्पद टिप्पणियाँ करना।

साइबर बुलिंग कई प्रकार की हो सकती है, निम्नलिखित कुछ प्रमुख प्रकार हैं:

1. साइबर वर्बल बुलिंग (Cyber Verbal Bullying): इसमें व्यक्ति ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स पर आलोचनात्मक टिप्पणियाँ, बदनामी, या घातक भाषा का इस्तेमाल करता है, जैसे कि दुश्मनाना ट्वीट करना या अभद्र चैट मैसेज भेजना।
इसमें ऑनलाइन प्लेटफार्म्स पर दुश्मनपूर्ण या अपमानजनक शब्दों का उपयोग किया जाता है, जैसे कि निंदा, धमकी, या अपमान।इसमें व्यक्ति वर्बल या लिखित रूप में अपमानजनक या नकारात्मक टिप्पणियाँ करता है, उदाहरण के लिए धमकियां, बदनामी, या घृणास्पद शब्दों का उपयोग करता है।

2. सोशल मीडिया साइबर बुलिंग: यह उदाहरण उनमें से है जब किसीको सोशल मीडिया पर बुलाया जाता है, उनके पोस्ट्स को नकारात्मक टिप्पणियों से भर दिया जाता है, या उनके खिलाफ अभियान चलाया जाता है।व्यक्ति के सोशल मीडिया पोस्ट्स पर नकारात्मक टिप्पणियां या मेसेज भेजना, उन्हें बदनाम करना या उनकी खिलाफ झूठी जानकारी साझा करना।

3.  साइबर स्टॉल्किंग (Cyberstalking): इसमें किसी व्यक्ति के ऑनलाइन गतिविधियों का बिना उनकी सहमति के पूर्वानुमति के बिना पीछा करने का प्रयास किया जाता है, जिससे उनकी गोपनीयता का उल्लंघन होता है। इसमें किसी का ऑनलाइन प्रोफ़ाइल ध्यानपूर्वक जांचा जाता है और उनके व्यक्तिगत जीवन की जानकारी को बिना अनुमति के प्रकाशित किया जाता है। यह जब होता है जब कोई व्यक्ति किसी के ऑनलाइन गतिविधियों, स्थान, या व्यक्तिगत जानकारी को गहरी रूप से जाँचता है और उन्हें परेशान करने का प्रयास करता है।

4. साइबर डॉक्टरिंग : यह उदाहरण उनमें से है जब किसी के ऑनलाइन छवि को बदल दिया जाता है ताकि वे बुरा दिखें, या उनके खिलाफ झूठी जानकारी प्रकाशित की जाती है।

5. साइबर स्ट्रेसिंग : यह उदाहरण उनमें से है जब किसीको ऑनलाइन पर परेशान किया जाता है, ताकि उनका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो।



6. टेक्स्टिंग या मैसेजिंग में बुलिंग: -

इसमें दुसरे व्यक्ति को नकारात्मक, खतरनाक या अपमानजनक संदेश भेजना शामिल होता है, जैसे कि धमकियाँ या बुरी भाषा का इस्तेमाल करना।
   व्यक्ति किसी के साथ नकारात्मक संदेश भेजना, गालियां देना या धमकी देना, जैसे कि "तुम बेकार हो, मैं तुम्हारे साथ क्यों रहूं?"


7. ऑनलाइन गेमिंग में बुलिंग:
   गेमिंग के दौरान अन्य गेमर्स को परेशान करना, उन्हें आपत्ति दिलाना, या धमकी देना, जैसे कि वॉयस चैट के माध्यम से अश्लील या नकारात्मक भाषा का इस्तेमाल करना।

8. ऑनलाइन छवि या वीडियो के साथ बुलिंग:
   - किसी के निजी छवि या वीडियो को बिना उनकी सहमति के ऑनलाइन पर साझा करना, उन्हें शर्मिंदा करना या बुरी तरह से ट्रोल करना।

9. वेबसाइट या ब्लॉग पर बुलिंग:
   अन्य व्यक्तियों के वेबसाइट या ब्लॉग पर नकारात्मक टिप्पणियां छोड़ना, उनके ब्लॉग को हैक करने का प्रयास करना, या उनकी खिलाफ दुर्भावनापूर्ण सामग्री पोस्ट करना।

ये केवल कुछ उदाहरण हैं, साइबर बुलिंग कई अन्य रूपों में भी हो सकती है, और यह व्यक्ति के जीवन को नकारात्मक तरीके से प्रभावित कर सकती है।


10. साइबर सोशल आउटकास्टिंग (Cyber Social Outcasting): यह जब होता है जब कोई व्यक्ति किसी को ऑनलाइन समुदाय से बाहर करने के लिए प्रयासरूप से काम करता है, जैसे कि किसी को सोशल मीडिया समुदाय से निकालने का प्रयास करना।

11. साइबर इग्नोरिंग (Cyber Ignoring) : यह जब होता है जब कोई व्यक्ति किसी अन्य की ऑनलाइन गतिविधियों को इग्नोर करने की कोशिश करता है, जैसे कि उनके संदेशों को देखने या पढ़ने से बचना।



12. साइबर रिलेंटलेस (Cyber Relentless) : इसमें एक व्यक्ति किसी अन्य को बार-बार ऑनलाइन हमला करता है, जिससे जीवन की गुणवत्ता पर असर पड़ता है।

13. सोशल मीडिया बुलिंग: यह व्यक्तिगत साइबर बुलिंग का प्रमुख रूप है, जिसमें किसी का सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल या पोस्ट्स पर नकारात्मक टिप्पणियाँ करना, व्यक्तिगत जानकारी का दुरुपयोग करना या उनको ऑनलाइन शरमसार करने की कोशिश करना शामिल होता है।

14.ऑनलाइन गेमिंग बुलिंग:  ऑनलाइन गेमिंग में एक खिलाड़ी को बुरी तरह से पीछा करने, उन्हें गेम में परेशान करने या उनकी गेमिंग कौशल को उनके खिलाफ इस्तेमाल करने की कोशिश करना इस प्रकार की बुलिंग का उदाहरण हो सकता है।

15. वेबसाइट या ब्लॉग बुलिंग: इसमें किसी के वेबसाइट या ब्लॉग पर अपमानजनक टिप्पणियाँ करना, उनके कंटेंट को हैक करने की कोशिश करना या उनके खिलाफ झूठ या घिनौना सामग्र पोस्ट करना शामिल होता है।

16. फोटो या वीडियो शेयरिंग बुलिंग: किसी की गैर-सहमति से फोटो या वीडियो को ऑनलाइन साझा करना, जिसमें वो अपमानित, बुरी तरह से परेशान, या घातक स्थिति में हो सकते हैं, यह भी एक प्रकार की साइबर बुलिंग है।



17.दूसरों के डेटा का उपयोग करने का साइबर बुलिंग (Doxxing): इसमें किसी के व्यक्तिगत जानकारी को ऑनलाइन प्रकाशित करने का प्रयास किया जाता है, जैसे कि पता, फोन नंबर, या व्यक्तिगत लिंक्स।


18. ऑनलाइन रूप में आत्म-हत्या की धमकियां (Online Threats of Self-Harm or Suicide): इसमें कोई व्यक्ति अपने आपको नुकसान पहुंचाने की धमकियां देता है या आत्महत्या की धमकियां देता है, जिससे दूसरों को चिंता और परेशानी होती है।

यह साइबर बुलिंग के कुछ प्रमुख प्रकार हैं, लेकिन यह एक बड़ी और चुनौतीपूर्ण समस्या है और इसके अन्य रूपों भी हो सकते हैं। साइबर बुलिंग को रोकने के लिए साइबर सुरक्षा के उपायों को अपनाना महत्वपूर्ण है।

 कुछ साइबर बुलिंग के प्रमुख प्रकार, लेकिन यह आपसे जुड़े ऑनलाइन आक्रमणों के विभिन्न रूपों का केवल एक संक्षेप हैं। यदि आपको या किसी और को साइबर बुलिंग का शिकार होने का संकेत है, तो तुरंत यह बात स्थानीय अधिकारिकों या पुलिस को रिपोर्ट करे.
               ये सभी रूप साइबर बुलिंग के उदाहरण हो सकते हैं और इसके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। इसलिए, साइबर बुलिंग को रोकने और उसके खिलाफ उपायों को समझना महत्वपूर्ण है।

    

Cyber ​​bullying is a type of online harassment in which a person defames, harasses, or makes negative comments against other people through the Internet or mobile device.  It can cause harm in personal life and weaken self-confidence.  Email, social media, online gaming, chat rooms, or other online mediums can be used as a form of cyber bullying.



 Social Media Cyberbullying: This occurs especially on social media platforms, such as making false remarks or making hateful comments to humiliate someone.


 Cyber ​​bullying can take many forms, the following are some of the major types:


 1. Cyber ​​Verbal Bullying: In this, the person uses critical comments, profanity, or hurtful language on online platforms, such as tweeting hostilely or sending abusive chat messages.

 This involves using hostile or abusive words on online platforms, such as slander, threats, or insults. This involves the person making derogatory or negative comments verbally or in writing, for example using threats, slander, or hateful words.  Is.


 2. Social media cyber bullying: This example is when someone is called out on social media, their posts are flooded with negative comments, or a campaign is conducted against them. Negative comments or messages are posted on the person's social media posts.  Sending, defaming them or sharing false information against them.


3. Cyberstalking: Attempts to follow a person's online activities without their prior consent, thereby violating their privacy.  In this, someone's online profile is carefully examined and information about their personal life is published without permission.  This is when someone deeply investigates someone's online activities, location, or personal information and attempts to harass them.


 4. Cyber ​​Doctoring : This example is when someone's online image is altered to make them look bad, or false information is published against them.


 5. Cyber ​​Stressing: This example is when someone is harassed online so that their mental health is affected.




 6. Bullying in texting or messaging:-


 It involves sending negative, threatening or abusive messages to another person, such as threats or using bad language.

 The person sends negative messages, abuses, or threatens someone, such as "You suck, why should I stay with you?"



 7. Bullying in Online Gaming:

 Harassing, objectifying, or threatening other gamers while gaming, such as using obscene or negative language through voice chat.


 8. Bullying with online images or videos:

 - Sharing someone's private images or videos online without their consent, embarrassing them, or trolling them badly.


 9. Bullying on website or blog:

 Leaving negative comments on other individuals' websites or blogs, attempting to hack their blogs, or posting malicious content against them.


 These are just a few examples, cyber bullying can take many other forms, and can impact a person's life in a negative way.

10. Cyber ​​Social Outcasting: This is when someone actively works to exclude someone from an online community, such as attempting to remove someone from a social media community.


 11. Cyber ​​Ignoring: This is when a person tries to ignore someone else's online activities, such as avoiding seeing or reading their messages.




 12. Cyber ​​Relentless: In this, one person repeatedly attacks another online, which affects the quality of life.


 13. Social Media Bullying: This is the main form of personal cyber bullying, which involves leaving negative comments on someone's social media profile or posts, misusing personal information or trying to shame them online.


 14.Online Gaming Bullying: Badly stalking a player in online gaming, harassing them in the game or trying to use their gaming skills against them can be examples of this type of bullying.


15. Website or Blog Bullying: This involves leaving derogatory comments on someone's website or blog, trying to hack their content, or posting lies or hateful content against them.


 16. Photo or Video Sharing Bullying: Sharing a non-consensual photo or video of someone online, in which they are humiliated, traumatized, or in a life-threatening situation, is also a type of cyber bullying.




 17.Doxxing: Attempting to publish someone's personal information online, such as an address, phone number, or personal links.



 18. Online Threats of Self-Harm or Suicide: In this, a person makes threats of self-harm or makes threats of suicide, which causes worry and trouble to others.


 These are some of the major types of cyber bullying, but it is a larger and challenging problem and it can take other forms as well.  It is important to adopt cyber security measures to prevent cyber bullying.


 Some of the major types of cyber bullying are but a summary of the different forms of online attacks you may face.  If you or anyone else has any indication that you may be a victim of cyber bullying, report it immediately to local authorities or the police.

 All these forms can be examples of cyber bullying and strict legal action can be taken against it.  Therefore, it is important to understand the measures to prevent and counter cyber bullying.

Comments

Popular posts from this blog

मेहर क्या होती है? यह कितने प्रकार की होती है. मेहर का भुगतान न किये जाने पर पत्नी को क्या अधिकार प्राप्त है?What is mercy? How many types are there? What are the rights of the wife if dowry is not paid?

मेहर ( Dowry ) - ' मेहर ' वह धनराशि है जो एक मुस्लिम पत्नी अपने पति से विवाह के प्रतिफलस्वरूप पाने की अधिकारिणी है । मुस्लिम समाज में मेहर की प्रथा इस्लाम पूर्व से चली आ रही है । इस्लाम पूर्व अरब - समाज में स्त्री - पुरुष के बीच कई प्रकार के यौन सम्बन्ध प्रचलित थे । ‘ बीना ढंग ' के विवाह में पुरुष - स्त्री के घर जाया करता था किन्तु उसे अपने घर नहीं लाता था । वह स्त्री उसको ' सदीक ' अर्थात् सखी ( Girl friend ) कही जाती थी और ऐसी स्त्री को पुरुष द्वारा जो उपहार दिया जाता था वह ' सदका ' कहा जाता था किन्तु ' बाल विवाह ' में यह उपहार पत्नी के माता - पिता को कन्या के वियोग में प्रतिकार के रूप में दिया जाता था तथा इसे ' मेहर ' कहते थे । वास्तव में मुस्लिम विवाह में मेहर वह धनराशि है जो पति - पत्नी को इसलिए देता है कि उसे पत्नी के शरीर के उपभोग का एकाधिकार प्राप्त हो जाये मेहर निःसन्देह पत्नी के शरीर का पति द्वारा अकेले उपभोग का प्रतिकूल स्वरूप समझा जाता है तथापि पत्नी के प्रति सम्मान का प्रतीक मुस्लिम विधि द्वारा आरोपित पति के ऊपर यह एक दायित्व है

वाद -पत्र क्या होता है ? वाद पत्र कितने प्रकार के होते हैं ।(what do you understand by a plaint? Defines its essential elements .)

वाद -पत्र किसी दावे का बयान होता है जो वादी द्वारा लिखित रूप से संबंधित न्यायालय में पेश किया जाता है जिसमें वह अपने वाद कारण और समस्त आवश्यक बातों का विवरण देता है ।  यह वादी के दावे का ऐसा कथन होता है जिसके आधार पर वह न्यायालय से अनुतोष(Relief ) की माँग करता है ।   प्रत्येक वाद का प्रारम्भ वाद - पत्र के न्यायालय में दाखिल करने से होता है तथा यह वाद सर्वप्रथम अभिवचन ( Pleading ) होता है । वाद - पत्र के निम्नलिखित तीन मुख्य भाग होते हैं ,  भाग 1 -    वाद- पत्र का शीर्षक और पक्षों के नाम ( Heading and Names of th parties ) ;  भाग 2-      वाद - पत्र का शरीर ( Body of Plaint ) ;  भाग 3 –    दावा किया गया अनुतोष ( Relief Claimed ) ।  भाग 1 -  वाद - पत्र का शीर्षक और नाम ( Heading and Names of the Plaint ) वाद - पत्र का सबसे मुख्य भाग उसका शीर्षक होता है जिसके अन्तर्गत उस न्यायालय का नाम दिया जाता है जिसमें वह वाद दायर किया जाता है ; जैसे- " न्यायालय सिविल जज , (जिला) । " यह पहली लाइन में ही लिखा जाता है । वाद - पत्र में न्यायालय के पीठासीन अधिकारी का नाम लिखना आवश्यक

बलवा और दंगा क्या होता है? दोनों में क्या अंतर है? दोनों में सजा का क्या प्रावधान है?( what is the riot and Affray. What is the difference between boths.)

बल्बा(Riot):- भारतीय दंड संहिता की धारा 146 के अनुसार यह विधि विरुद्ध जमाव द्वारा ऐसे जमाव के समान उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए बल या हिंसा का प्रयोग किया जाता है तो ऐसे जमाव का हर सदस्य बल्बा करने के लिए दोषी होता है।बल्वे के लिए निम्नलिखित तत्वों का होना आवश्यक है:- (1) 5 या अधिक व्यक्तियों का विधि विरुद्ध जमाव निर्मित होना चाहिए  (2) वे किसी सामान्य  उद्देश्य से प्रेरित हो (3) उन्होंने आशयित सामान्य  उद्देश्य की पूर्ति हेतु कार्यवाही प्रारंभ कर दी हो (4) उस अवैध जमाव ने या उसके किसी सदस्य द्वारा बल या हिंसा का प्रयोग किया गया हो; (5) ऐसे बल या हिंसा का प्रयोग सामान्य उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया गया हो।         अतः बल्वे के लिए आवश्यक है कि जमाव को उद्देश्य विधि विरुद्ध होना चाहिए। यदि जमाव का उद्देश्य विधि विरुद्ध ना हो तो भले ही उसमें बल का प्रयोग किया गया हो वह बलवा नहीं माना जाएगा। किसी विधि विरुद्ध जमाव के सदस्य द्वारा केवल बल का प्रयोग किए जाने मात्र से जमाव के सदस्य अपराधी नहीं माने जाएंगे जब तक यह साबित ना कर दिया जाए कि बल का प्रयोग किसी सामान्य  उद्देश्य की पूर्ति हेत