Skip to main content

Striving for Equality: The Case for a Uniform Civil Code

मुस्लिम विधि में जनकता एवं धर्मजत्व का वर्णन कीजिए।( describe the law of Paternity and legality under Muslim law)

जनकता माता-पिता तथा बच्चों के मध्य संबंध को दर्शाता है?

          जब एक व्यक्ति कानून की दृष्टि में दूसरे का पिता या माता माना है तब उस दूसरे व्यक्ति का पितृत्व है या मातृत्व पहले व्यक्ति में सिद्ध माना जाता है. (तैयब जी)

मातृत्व कैसे स्थापित होता है?

( 1) सुन्नी विधि में बच्चे का मातृत्व उस स्त्री में स्थापित होता है तो उसे जन्म देती है भले ही बच्चे का जन्म पर पुरुष गमन का परिणाम हो..

( 2) सिया विधि में जन्मे मातृत्व स्थापित करने के लिए पर्याप्त नहीं है यह साबित करना जरूरी है कि जन्म वैद्य विवाह  का परिणाम है.

( 3) यदि कोई व्यक्ति किसी स्त्री से अवैध संभोग (जिना) करके बच्चा पैदा करता है तो ऐसा बच्चा सुन्नी विधि के अनुसार केवल अपनी मां का ही बच्चा समझा जाता है बच्चा केवल मां से ही उत्तराधिकार प्राप्त कर सकता है तथा वह  मां के संबंधियों से उत्तराधिकार प्राप्त कर सकता है.


( 4) सिया विधि में अधर्मज संतान माता-पिता दोनों में से किसी से भी उत्तराधिकार नहीं प्राप्त कर सकता है।


मातृत्व क्या है? मातृत्व बच्चे की वह विधिक स्थिति है जो उसके पिता की संपत्ति उत्तराधिकार और दाए का अवधारणा करती है.


पितृत्व (paternity) क्या है? पितृत्व बच्चे की वह विधिक स्थिति है जो उसके पिता की संपत्ति के उत्तराधिकार और दाय का अवधारण करती है।


पितृत्व कैसे स्थापित होगा?

किसी बच्चे का पितृत्व माता और पिता के विवाह होने से स्थापित होता है विवाह मान्य या अनियमित हो परंतु  उसे शून्य नहीं होना चाहिए।


         सिया विधि में अवैध संतान किसी का संबंधी नहीं होती सुन्नी विधि में अवैध संतान का केवल मातृत्व होता है परंतु पितृत्व नहीं.


धर्मजत्व (Legitimacy)धर्मजत्व का मुख्य आधार विवाह होता है. हबीबुर्रहमान बनाम अल्ताफ अली चौधरी (1921) के प्रकरण में पृवी काउंसिल ने यह विचार व्यक्त किया कि मुस्लिम विधि में लड़के के धर्मज होने के लिए किसी पुरुष और उसकी पत्नी या किसी पुरुष और उसकी दासी का बच्चा होना जरूरी है कोई अन्य संतान व्यभिचार की संतान होती है और वह धर्मज नहीं हो सकती।


      जब बच्चे को पितृत्व स्थापित हो जाता है तो उसका धर्मजता भी स्थापित हो जाता है मुस्लिम विधि में पितृत्व दो तरीके से स्थापित होता है।

(1)धर्मजत्व संबंधी मुस्लिम विधि का विशेष नियम: मुस्लिम विधि के अनुसार धर्मजता की अवधारणा के नियम नियम है

(1) विवाह के पश्चात 6 माह के भीतर जन्मा हुआ बच्चा अधर्मज होता है यदि पिता उसे अभी स्वीकार ना करें।

(2) विवाह की तारीख के 6 माह बाद धर्म होने की उप धारणा की जाती है जब तक कि पिता उसे के लिए द्वारा अस्वीकार ना करते.

(3) विवाह विच्छेद के पश्चात उत्पन्न बच्चा इन परिस्थितियों में धर्मज होगा

(a) सिया विधि के अंतर्गत 10 चंद्र मास के अंदर उत्पन्न हुआ बच्चा.

(b) हनफी की विधि में दो चंद्र वर्षों के भीतर पैदा हुआ बच्चा

(c)शफी और मलिको मे 4 चंद्र वर्षों के भीतर पैदा हुआ।

       वैद्य विवाह होने पर संतान की ओर सत्ता स्थापित होती है वैधता का प्रत्यक्ष प्रमाण होना चाहिए( सादिक हुसैन बनाम हाशिम अली(1916)43 आइ.ए212,38इला 627).

किसी अवैध संतान को अभिस्वीकृति द्वारा औरस संतान नहीं बनाया जा सकता है।

( 2) भारतीय साक्ष्य अधिनियम के अधीन धर्मजत्व की अवधारणा धारा 112 भारतीय साक्ष्य अधिनियम के अनुसार यह तथ्य की किसी व्यक्ति का जन्म उसकी माता और किसी पुरुष के मान्य विवाह के कायम रहने के दौरान हुआ था विवाह विच्छेद से 280 दिनों के भीतर हुआ जब माता अविवाहित रही इस बात का निश्चय आत्मक प्रमाण है कि वह उस पुरुष की धर्म संतान है जब तक कि यह ना दर्शाए जाएगी उस बच्चे के गर्भ  में आने के समय विवाह के पक्षकारों की एक दूसरे तक पहुंच न थी।


       उपरोक्त से स्पष्ट है कि साक्ष्य अधिनियम की धारा 112 के अंतर्गत निम्न तथ्य किसी व्यक्ति की औरसता के प्रमाण माने जाते हैं।


(1)  व्यक्ति अपने माता-पिता के वैद्य विवाह के दौरान उत्पन्न हुआ है.

(2) विवाह विच्छेद के 250 दिन के भीतर उत्पन्न हुआ बस आते उसकी मां ने पुनर्विवाह ना किया हो.


      जब ताकि यह सिद्ध ना हो जाए कि उसके गर्भाधान के समय विवाह के पक्षकारों की एक दूसरे तक पहुंच ही नहीं हो पाई हो.


       मुस्लिम वैयक्तिक विधि के औरसता संबंधी नियम भारत में प्रायोज्य नहीं है। भारत मेंऔरसता साक्ष्य अधिनियम की धारा 112 के अंतर्गत सुनिश्चित होती है.


       पृवी काउंसिल ने मुस्लिम विवाह की संतान की औरसता निर्धारित करने हेतु साक्ष्य अधिनियम की धारा 112 को ही लागू किया है ना कि मुस्लिम विधि को( इस्माइल अहमद बनाम मोमिन बीवी एआईआर 1941 प्रीवी. को 11) उच्च न्यायालयों में भी मुस्लिम संतान की औरसता के संबंध में साक्ष्य अधिनियम की धारा 112 को ही अपनाया है।


Comments

Popular posts from this blog

मेहर क्या होती है? यह कितने प्रकार की होती है. मेहर का भुगतान न किये जाने पर पत्नी को क्या अधिकार प्राप्त है?What is mercy? How many types are there? What are the rights of the wife if dowry is not paid?

मेहर ( Dowry ) - ' मेहर ' वह धनराशि है जो एक मुस्लिम पत्नी अपने पति से विवाह के प्रतिफलस्वरूप पाने की अधिकारिणी है । मुस्लिम समाज में मेहर की प्रथा इस्लाम पूर्व से चली आ रही है । इस्लाम पूर्व अरब - समाज में स्त्री - पुरुष के बीच कई प्रकार के यौन सम्बन्ध प्रचलित थे । ‘ बीना ढंग ' के विवाह में पुरुष - स्त्री के घर जाया करता था किन्तु उसे अपने घर नहीं लाता था । वह स्त्री उसको ' सदीक ' अर्थात् सखी ( Girl friend ) कही जाती थी और ऐसी स्त्री को पुरुष द्वारा जो उपहार दिया जाता था वह ' सदका ' कहा जाता था किन्तु ' बाल विवाह ' में यह उपहार पत्नी के माता - पिता को कन्या के वियोग में प्रतिकार के रूप में दिया जाता था तथा इसे ' मेहर ' कहते थे । वास्तव में मुस्लिम विवाह में मेहर वह धनराशि है जो पति - पत्नी को इसलिए देता है कि उसे पत्नी के शरीर के उपभोग का एकाधिकार प्राप्त हो जाये मेहर निःसन्देह पत्नी के शरीर का पति द्वारा अकेले उपभोग का प्रतिकूल स्वरूप समझा जाता है तथापि पत्नी के प्रति सम्मान का प्रतीक मुस्लिम विधि द्वारा आरोपित पति के ऊपर यह एक दायित्व है

वाद -पत्र क्या होता है ? वाद पत्र कितने प्रकार के होते हैं ।(what do you understand by a plaint? Defines its essential elements .)

वाद -पत्र किसी दावे का बयान होता है जो वादी द्वारा लिखित रूप से संबंधित न्यायालय में पेश किया जाता है जिसमें वह अपने वाद कारण और समस्त आवश्यक बातों का विवरण देता है ।  यह वादी के दावे का ऐसा कथन होता है जिसके आधार पर वह न्यायालय से अनुतोष(Relief ) की माँग करता है ।   प्रत्येक वाद का प्रारम्भ वाद - पत्र के न्यायालय में दाखिल करने से होता है तथा यह वाद सर्वप्रथम अभिवचन ( Pleading ) होता है । वाद - पत्र के निम्नलिखित तीन मुख्य भाग होते हैं ,  भाग 1 -    वाद- पत्र का शीर्षक और पक्षों के नाम ( Heading and Names of th parties ) ;  भाग 2-      वाद - पत्र का शरीर ( Body of Plaint ) ;  भाग 3 –    दावा किया गया अनुतोष ( Relief Claimed ) ।  भाग 1 -  वाद - पत्र का शीर्षक और नाम ( Heading and Names of the Plaint ) वाद - पत्र का सबसे मुख्य भाग उसका शीर्षक होता है जिसके अन्तर्गत उस न्यायालय का नाम दिया जाता है जिसमें वह वाद दायर किया जाता है ; जैसे- " न्यायालय सिविल जज , (जिला) । " यह पहली लाइन में ही लिखा जाता है । वाद - पत्र में न्यायालय के पीठासीन अधिकारी का नाम लिखना आवश्यक

बलवा और दंगा क्या होता है? दोनों में क्या अंतर है? दोनों में सजा का क्या प्रावधान है?( what is the riot and Affray. What is the difference between boths.)

बल्बा(Riot):- भारतीय दंड संहिता की धारा 146 के अनुसार यह विधि विरुद्ध जमाव द्वारा ऐसे जमाव के समान उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए बल या हिंसा का प्रयोग किया जाता है तो ऐसे जमाव का हर सदस्य बल्बा करने के लिए दोषी होता है।बल्वे के लिए निम्नलिखित तत्वों का होना आवश्यक है:- (1) 5 या अधिक व्यक्तियों का विधि विरुद्ध जमाव निर्मित होना चाहिए  (2) वे किसी सामान्य  उद्देश्य से प्रेरित हो (3) उन्होंने आशयित सामान्य  उद्देश्य की पूर्ति हेतु कार्यवाही प्रारंभ कर दी हो (4) उस अवैध जमाव ने या उसके किसी सदस्य द्वारा बल या हिंसा का प्रयोग किया गया हो; (5) ऐसे बल या हिंसा का प्रयोग सामान्य उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया गया हो।         अतः बल्वे के लिए आवश्यक है कि जमाव को उद्देश्य विधि विरुद्ध होना चाहिए। यदि जमाव का उद्देश्य विधि विरुद्ध ना हो तो भले ही उसमें बल का प्रयोग किया गया हो वह बलवा नहीं माना जाएगा। किसी विधि विरुद्ध जमाव के सदस्य द्वारा केवल बल का प्रयोग किए जाने मात्र से जमाव के सदस्य अपराधी नहीं माने जाएंगे जब तक यह साबित ना कर दिया जाए कि बल का प्रयोग किसी सामान्य  उद्देश्य की पूर्ति हेत